Lorn Sun Surya

108 Names of Lord Surya : सूर्य भगवान के १०८ नाम

 surya dev

108 Names of Lord Surya : सूर्य भगवान के १०८ नाम

Surya Ashtottara Shatanamavali Stotra
– the hymn of a hundred and eight names –

Ashtottara Shatanam means hundred and eight(Shatanam ) names (nama), and AshtottaraShatanamavali Stotra is a hymn eulogizing the Lord by recounting one hundred of His names. As the various sects of Hindu-tradition (Shaivism, Shaktism and Vaishnavism) grew and spread, it must have become extremely popular to write hymns of a hundred names for the primary Deity of worship. The Surya Sahasranama Stotra.  108 names of Surya, which are collectively known as Ashtottara Shatanamavali of Surya.

No
Sanskrit Name
Name Mantra
English Name
Meaning
1.
अरुण
ॐ अरुणाय नमः।
Aruna
Reddish Brown
2.
शरण्य
ॐ शरण्याय नमः।
Sharanya
The One Who Provides Refuge
3.
करुणारससिन्धु
ॐ करुणारससिन्धवे नमः।
Karuna-rasa-sindhu
The Ocean of the Sentiment of Compassion
4.
असमानबल
ॐ असमानबलाय नमः।
Asmanabala
The One of Unequalled Strength.
5.
आर्तरक्षक
ॐ आर्तरक्षकाय नमः।
Arta-rakshaka
The Protector from Suffering
6.
आदित्य
ॐ आदित्याय नमः।
Aditya
The Sun or The Son of Aditi
7.
आदिभूत
ॐ आदिभूताय नमः।
Adibhuta
The First Being
8.
अखिलागमवेदिन
ॐ अखिलागमवेदिने नमः।
Akhila-gamavedin
The Knower of All Scriptures
9.
अच्युत
ॐ अच्युताय नमः।
Achyuta
Imperishable, The Steady One
10.
अखिलज्ञ
ॐ अखिलज्ञाय नमः।
Akhilagya
The Knower of Everything
11.
अनन्त
ॐ अनन्ताय नमः।
Ananta
The Unbounded One
12.
इना
ॐ इनाय नमः।
Ina
The Strong One
13.
विश्वरूप
ॐ विश्वरूपाय नमः।
Vishvarupa
The One with an All Pervading Form
14.
इज्य
ॐ इज्याय नमः।
Ijya
The One to be Revered
15.
इन्द्र
ॐ इन्द्राय नमः।
Indra
Leader of the Gods
16.
भानु
ॐ भानवे नमः।
Bhanu
The Bright One
17.
इन्दिरामन्दिराप्त
ॐ इन्दिरामन्दिराप्ताय नमः।
Indriramandirapta
The One Who has Gained the Abode of Indira (Lakshmi)
18.
वन्दनीय
ॐ वन्दनीयाय नमः।
Vandaniya
The Praiseworthy One
19.
ईश
ॐ ईशाय नमः।
Isha
The Lord
20.
सुप्रसन्न
ॐ सुप्रसन्नाय नमः।
Suprasanna
The Very Bright One
21.
सुशील
ॐ सुशीलाय नमः।
Sushila
The Good-Natured One
22.
सुवर्चस्
ॐ सुवर्चसे नमः।
Suvarchas
The Brilliant One
23.
वसुप्रद
ॐ वसुप्रदाय नमः।
Vasuprada
The Bestower of wealth
24.
वसु
ॐ वसवे नमः।
Vasu
The Deva (The Excellent One)
25.
वासुदेव
ॐ वासुदेवाय नमः।
Vasudeva
Shri Krishna
26.
उज्ज्वल
ॐ उज्ज्वल नमः।
Ujjaval
The Blazing One
27.
उग्ररूप
ॐ उग्ररूपाय नमः।
Ugrarupa
The One with a Ferce Form
28.
ऊर्ध्वग
ॐ ऊर्ध्वगाय नमः।
Urdhvaga
The One Who Rises Up
29.
विवस्वत्
ॐ विवस्वते नमः।
Vivasvat
The One Who Shines Forth
30.
उद्यत्किरणजाल
ॐ उद्यत्किरणजालाय नमः।
Udhatkiranajala
The One Who Produces a Lattice of Rising Beams of Light
31.
हृषीकेश
ॐ हृषीकेशाय नमः।
Hrishikesha
Lord of the Senses
32.
ऊर्जस्वल
ॐ ऊर्जस्वलाय नमः।
Urjasvala
The Mighty One
33.
वीर
ॐ वीराय नमः।
Vira
The Brave One
34.
निर्जर
ॐ निर्जराय नमः।
Nirjara
The Imperishable One
35.
जय
ॐ जयाय नमः।
Jaya
The Victorious One
36.
ऊरुद्वयाभावरूपयुक्तसारथी
ॐ ऊरुद्वयाभावरूपयुक्तसारथये नमः।
Urudvaya-bhavaroopayukta-sarathi
The One Whose Charioteer has a Form without a Pair of Thighs
37.
ऋषिवन्द्य
ॐ ऋषिवन्द्याय नमः।
Rishivandya
The One Worshipped by Rishis
38.
रुग्घन्त्र्
ॐ रुग्घन्त्रे नमः।
Rugghantr
The Destroyer of Disease
39.
ऋक्षचक्रचर
ॐ ऋक्षचक्रचराय नमः।
Rikshachakrachara
The One Who Moves Through the Wheel of Stars
40.
ऋजुस्वभावचित्त
ॐ ऋजुस्वभावचित्ताय नमः।
Rijusva-bhavachitta
The One Whose Mind by Nature is Sincere
41.
नित्यस्तुत्य
ॐ नित्यस्तुत्याय नमः।
Nityastutya
The One Who is Fit to Praised Always
42.
ऋकारमातृकावर्णरूप
ॐ ऋकारमातृकावर्णरूपाय नमः।
Rikaramatrikavarnarupa
The One Who has the Form of the Letter Rikara
43.
उज्ज्वलतेजस्
ॐ उज्ज्वलतेजसे नमः।
Ujjvalatejas
The One with a Blazing Brilliance
44.
ऋक्षाधिनाथमित्र
ॐ ऋक्षाधिनाथमित्राय नमः।
Rikshadhinathamitra
The Friend of the Lord of Stars (the Moon)
45.
पुष्कराक्ष
ॐ पुष्कराक्षाय नमः।
Pushkaraksha
The Lotus-Eyed One
46.
लुप्तदन्त
ॐ लुप्तदन्ताय नमः।
Luptadanta
The One Whose Teeth are Lost
47.
शान्त
ॐ शान्ताय नमः।
Shanta
Pacified, Calm
48.
कान्तिद
ॐ कान्तिदाय नमः।
Kantida
The Bestower of Beauty
49.
घन
ॐ घनाय नमः।
Ghana
The Destroyer
50.
कनत्कनकभूष
ॐ कनत्कनकभूषाय नमः।
Kanatkanaka-bhusha
The Brilliant Golden Ornament
51.
खद्योत
ॐ खद्योताय नमः।
Khadyota
The Light of the Sky
52.
लूनिताखिलदैत्य
ॐ लूनिताखिलदैत्याय नमः।
Lunitakhila-daitya
The Destroyer of All Demons
53.
सत्यानन्दस्वरूपिण्
ॐ सत्यानन्दस्वरूपिणे नमः।
Satyananda-svarupin
The One Whose Nature is True Bliss
54.
अपवर्गप्रद
ॐ अपवर्गप्रदाय नमः।
Apavarga-prada
The Bestower of Liberation
55.
आर्तशरण्य
ॐ आर्तशरण्याय नमः।
Arta-sharanya
The Provider of Shelter to the Distressed
56.
एकाकिन्
ॐ एकाकिने नमः।
Ekakin
The solitary One
57.
भगवत्
ॐ भगवते नमः।
Bhagavat
The Divine One
58.
सृष्टिस्थित्यन्तकारिण्
ॐ सृष्टिस्थित्यन्तकारिणे नमः।
Srishti-sthityantakarin
The One Who Makes the Creation, Maintenance, and End
59.
गुणात्मन्
ॐ गुणात्मने नमः।
Gunatman
The One with Qualities
60.
घृणिभृत्
ॐ घृणिभृते नमः।
Ghrinibhrit
The One Who Possesses Light
61.
बृहत्
ॐ बृहते नमः।
Brihat
The Great One
62.
ब्रह्मण्
ॐ ब्रह्मणे नमः।
Brahman
The Eternal Brahman
63.
ऐश्वर्यद
ॐ ऐश्वर्यदाय नमः।
Eshvaryada
The Bestower of Power
64.
शर्व
ॐ शर्वाय नमः।
Sharva
The One that Injures
65.
हरिदश्व
ॐ हरिदश्वाय नमः।
Haridashva
The One with Tawny Horses
66.
शौरी
ॐ शौरये नमः।
Shauri
The Heroic One
67.
दशदिक्संप्रकाश
ॐ दशदिक्संप्रकाशाय नमः।
Dashadiksam-prakasha
The One Who Shines in Ten Directions
68.
भक्तवश्य
ॐ भक्तवश्याय नमः।
Bhakta-vashya
The One Who is Attentive to the Devotees
69.
ओजस्कर
ॐ ओजस्कराय नमः।
Ojaskara
The Maker of Power
70.
जयिन्
ॐ जयिने नमः।
Jayin
The victorious One
71.
जगदानन्दहेतु
ॐ जगदानन्दहेतवे नमः।
Jagadanandahetu
The Cause of Joy for the World
72.
जन्ममृत्युजराव्याधिवर्जित
ॐ जन्ममृत्युजराव्याधिवर्जिताय नमः।
Janma-mrityu-jara-vyadhi-varjita
The One Who is Free from Birth, Death, Old Age, Suffering, etc
73.
उच्चस्थान समारूढरथस्थ
ॐ उच्चस्थान समारूढरथस्थाय नमः।
Uchchasthana samarudha-rathastha
The One Established in a Chariot that Moves with Lofty Steps
74.
असुरारी
ॐ असुरारये नमः।
Asurari
The Enemy of the Demons
75.
कमनीयकर
ॐ कमनीयकराय नमः।
Kamaniyakara
The Fulfiller of Desires
76.
अब्जवल्लभ
ॐ अब्जवल्लभाय नमः।
Abjavallabha
The Most Beloved of Abja (Dhanvantari)
77.
अन्तर्बहिः प्रकाश
ॐ अन्तर्बहिः प्रकाशाय नमः।
Antarbahih prakasha
The One with Inner and Outer Brilliance
78.
अचिन्त्य
ॐ अचिन्त्याय नमः।
Achintya
The Inconceivable One
79.
आत्मरूपिण्
ॐ आत्मरूपिणे नमः।
Atmarupin
The Form of Atman
80.
अच्युत
ॐ अच्युताय नमः।
Achyuta
The Imperishable One
81.
अमरेश
ॐ अमरेशाय नमः।
Amaresha
The Lord of Immortals
82.
पर ज्योतिष्
ॐ परस्मै ज्योतिषे नमः।
Para Jyotish
The Supreme Light
83.
अहस्कर
ॐ अहस्कराय नमः।
Ahaskara
The Maker of the Day
84.
रवि
ॐ रवये नमः।
Ravi
The One Who Roars
85.
हरि
ॐ हरये नमः।
Hari
The Remover (of Sin)
86.
परमात्मन्
ॐ परमात्मने नमः।
Paramatman
The Supreme Being
87.
तरुण
ॐ तरुणाय नमः।
Taruna
The Youthful One
88.
वरेण्य
ॐ वरेण्याय नमः।
Varenya
The Most Excellent One
89.
ग्रहाणांपति
ॐ ग्रहाणांपतये नमः।
Grahanam Pati
The Lord of Planets
90.
भास्कर
ॐ भास्कराय नमः।
Bhaskara
The Maker of Light
91.
आदिमध्यान्तरहित
ॐ आदिमध्यान्तरहिताय नमः।
Adimadhyantarahita
The One Who is Solitary in the Beginning, Middle, and End
92.
सौख्यप्रद
ॐ सौख्यप्रदाय नमः।
Saukhyaprada
The Bestower of Happiness
93.
सकलजगतांपति
ॐ सकलजगतांपतये नमः।
Sakalajagatam Pati
The Lord of All Worlds
94.
सूर्य
ॐ सूर्याय नमः।
Surya
The Powerful One, or The Brilliant One
95.
कवि
ॐ कवये नमः।
Kavi
The Wise One
96.
नारायण
ॐ नारायणाय नमः।
Narayana
The One Whom Men Approach
97.
परेश
ॐ परेशाय नमः।
Paresha
The Highest Lord
98.
तेजोरूप
ॐ तेजोरूपाय नमः।
Tejorupa
The One with the Form of Fire
99.
हिरण्यगर्भ
ॐ हिरण्यगर्भाय नमः।
Hiranyagarbha
The Golden Source (of the Universe)
100.
सम्पत्कर
ॐ सम्पत्कराय नमः।
Sampatkara
The Maker of Success
101.
ऐं इष्टार्थद
ॐ ऐं इष्टार्थदाय नमः।
Aem Istarthada
The Bestower of the Desired Object
102.
अं सुप्रसन्न
ॐ अं सुप्रसन्नाय नमः।
Am Suprasanna
The Very Bright One
103.
श्रीमत्
ॐ श्रीमते नमः।
Shrimat
The Glorious One
104.
श्रेयस्
ॐ श्रेयसे नमः।
Shreyas
The Most Excellent One
105.
सौख्यदायिन्
ॐ सौख्यदायिने नमः।
Saukhyadayin
The Bestower of Enjoyments
106.
दीप्तमूर्ती
ॐ दीप्तमूर्तये नमः।
Diptamurti
The One With a Blazing Form
107.
निखिलागमवेद्य
ॐ निखिलागमवेद्याय नमः।
Nikhilagamavedya
The Knower of All Scriptures
108.
नित्यानन्द
ॐ नित्यानन्दाय नमः।
Nityananda
The One Who is Always Blissful

surya Dev Aarti

108 Names of Lord Surya : सूर्य भगवान के १०८ नाम in Sanskrit

सूर्योsर्यमा भगस्त्वष्टा पूषार्क: सविता रवि: ।
गभस्तिमानज: कालो मृत्युर्धाता प्रभाकर: ।।1।।

पृथिव्यापश्च तेजश्च खं वयुश्च परायणम ।
सोमो बृहस्पति: शुक्रो बुधोsड़्गारक एव च ।।2।।

इन्द्रो विश्वस्वान दीप्तांशु: शुचि: शौरि: शनैश्चर: ।
ब्रह्मा विष्णुश्च रुद्रश्च स्कन्दो वरुणो यम: ।।3।।

वैद्युतो जाठरश्चाग्निरैन्धनस्तेजसां पति: ।
धर्मध्वजो वेदकर्ता वेदाड़्गो वेदवाहन: ।।4।।

कृतं तत्र द्वापरश्च कलि: सर्वमलाश्रय: ।
कला काष्ठा मुहूर्ताश्च क्षपा यामस्तया क्षण: ।।5।।

संवत्सरकरोsश्वत्थ: कालचक्रो विभावसु: ।
पुरुष: शाश्वतो योगी व्यक्ताव्यक्त: सनातन: ।।6।।

कालाध्यक्ष: प्रजाध्यक्षो विश्वकर्मा तमोनुद: ।
वरुण सागरोsशुश्च जीमूतो जीवनोsरिहा ।।7।।

भूताश्रयो भूतपति: सर्वलोकनमस्कृत: ।
स्रष्टा संवर्तको वह्रि सर्वलोकनमस्कृत: ।।8।।

अनन्त कपिलो भानु: कामद: सर्वतो मुख: ।
जयो विशालो वरद: सर्वधातुनिषेचिता ।।9।।

मन: सुपर्णो भूतादि: शीघ्रग: प्राणधारक: ।
धन्वन्तरिर्धूमकेतुरादिदेवोsअदिते: सुत: ।।10।।

द्वादशात्मारविन्दाक्ष: पिता माता पितामह: ।
स्वर्गद्वारं प्रजाद्वारं मोक्षद्वारं त्रिविष्टपम ।।11।।

देहकर्ता प्रशान्तात्मा विश्वात्मा विश्वतोमुख: ।
चराचरात्मा सूक्ष्मात्मा मैत्रेय करुणान्वित: ।।12।।

एतद वै कीर्तनीयस्य सूर्यस्यामिततेजस: ।
नामाष्टकशतकं चेदं प्रोक्तमेतत स्वयंभुवा ।।13।।

Common Names of Lord Surya or Sun in Sanskrit

Bhaskar, Ravi, Aditya, surya, mitra, dinkar, bhanve, savitra
Divaakar, Prabhaakar, Sahastraanshu, Vibhaavsu, Dinkrit.

Lorn Sun Surya

सूर्य देव के 108 नाम (108 Names of Lord Surya in Hindi)

  1. अरुण- तांबे जैसे रंग वाला
  2. शरण्य- शरण देने वाला
  3. करुणारससिन्धु- करुणा- भावना के महासागर
  4. असमानबल- असमान बल वाले
  5. आर्तरक्षक- पीड़ा से रक्षा करने वाले
  6. आदित्य- अदिति के पुत्र
  7. आदिभूत- प्रथम जीव
  8. अखिलागमवेदिन- सभी शास्त्रों के ज्ञाता
  9. अच्युत- जिसता अंत विनाश न हो सके (अविनाशी)
  10. अखिलज्ञ- सब कुछ का ज्ञान रखने वाले
  11. अनन्त- जिसकी कोई सीमा नहीं है
  12. इना- बहुत शक्तिशाली
  13. विश्वरूप- सभी रूपों में दिखने वाला
  14. इज्य- परम पूजनीय
  15. इन्द्र- देवताओं के राजा
  16. भानु- एक अद्भुत तेज के साथ
  17. इन्दिरामन्दिराप्त- इंद्र निवास का लाभ पाने वाले
  18. वन्दनीय- स्तुती करने योग्य
  19. ईश- इश्वर
  20. सुप्रसन्न- बहुत उज्ज्वल
  21. सुशील- नेक दिल वाल
  22. सुवर्चस्- तेजोमय चमक वाले
  23. वसुप्रद- धन दान करने वाले
  24. वसु- देव
  25. वासुदेव- श्री कृष्ण
  26. उज्ज्वल- धधकता हुआ तेज वाला
  27. उग्ररूप-क्रोद्ध में रहने वाले
  28. ऊर्ध्वग- आकार बढ़ाने वाला
  29. विवस्वत्-चमकता हुआ
  30. उद्यत्किरणजाल- रोशनी की बढ़ती कड़ियों का एक जाल उत्पन्न करने वाले
  31. हृषीकेश- इंद्रियों के स्वामी
  32. ऊर्जस्वल- पराक्रमी
  33. वीर- (निडर) न डरने वाला
  34. निर्जर- न बिगड़ने वाला
  35. जय- जीत हासिल करने वाला
  36. ऊरुद्वयाभावरूपयुक्तसारथी- बिना जांघों वाले सारथी
  37. ऋषिवन्द्य- ऋषियों द्वारा पूजे जाने वाले
  38. रुग्घन्त्र्- रोग के विनाशक
  39. ऋक्षचक्रचर- सितारों के चक्र के माध्यम से चलने वाले
  40. ऋजुस्वभावचित्त- प्रकृति की वास्तविक शुद्धता को पहचानने वाले
  41. नित्यस्तुत्य- प्रशस्त के लिए तैयार रहने वाला
  42. ऋकारमातृकावर्णरूप- ऋकारा पत्र के आकार वाला
  43. उज्ज्वलतेजस्- धधकते दीप्ति वाले
  44. ऋक्षाधिनाथमित्र- तारों के देवता के मित्र
  45. पुष्कराक्ष- कमल नयन वाले
  46. लुप्तदन्त- जिनके दांत नहीं हैं
  47. शान्त- शांत रहने वाले
  48. कान्तिद- सुंदरता के दाता
  49. घन- नाश करने वाल
  50. कनत्कनकभूष- तेजोमय रत्न वाले
  51. खद्योत- आकाश की रोशनी
  52. लूनिताखिलदैत्य- असुरों का नाश करने वाला
  53. सत्यानन्दस्वरूपिण्- परमानंद प्रकृति वाले
  54. अपवर्गप्रद- मुक्ति के दाता
  55. आर्तशरण्य- दुखियों को अपने शरण में लेने वाले
  56. एकाकिन्- त्यागी
  57. भगवत्- दिव्य शक्ति वाले
  58. सृष्टिस्थित्यन्तकारिण्- जगत को बनाने वाले, चलाने वाले और उसका अंत करने वाले
  59. गुणात्मन्- गुणों से परिपूर्ण
  60. घृणिभृत्- रोशनी को अधिकार में रखने वाले
  61. बृहत्- बहुत महान
  62. ब्रह्मण्- अनन्त ब्रह्म वाला
  63. ऐश्वर्यद- शक्ति के दाता
  64. शर्व- पीड़ा देने वाला
  65. हरिदश्वा- गहरे पीले के रंग घोड़े के साथ रहने वाला
  66. शौरी- वीरता के साथ रहने वाला
  67. दशदिक्संप्रकाश- दसों दिशाओं में रोशनी देने वाला
  68. भक्तवश्य- भक्तों के लिए चौकस रहने वाला
  69. ओजस्कर- शक्ति के निर्माता
  70. जयिन्- सदा विजयी रहने वाला
  71. जगदानन्दहेतु- विश्व के लिए उत्साह का कारण बनने वाले
  72. जन्ममृत्युजराव्याधिवर्जित- युवा,वृद्धा, बचपन सभी अवस्थाओं से दूर रहने वाले
  73. उच्चस्थान समारूढरथस्थ- बुलंद इरादों के साथ रथ पर चलने वाले
  74. असुरारी- राक्षसों के दुश्मन
  75. कमनीयकर- इच्छाओं को पूर्ण करने वाले
  76. अब्जवल्लभ- अब्जा के दुलारे
  77. अन्तर्बहिः प्रकाश- अंदर और बाहर से चमकने वाले
  78. अचिन्त्य- किसी बात की चिन्ता न करने वाले
  79. आत्मरूपिण्- आत्मा रूपी
  80. अच्युत- अविनाशी रूप वाले
  81. अमरेश- सदा अमर रहने वाले
  82. परम ज्योतिष्- परम प्रकाश वाले
  83. अहस्कर- दिन की शुरूआत करने वाले
  84. रवि- भभकने वाले
  85. हरि- पाप को हटाने वाले
  86. परमात्मन्- अद्भुत आत्मा वाले
  87. तरुण- हमेशा युवा रहने वाले
  88. वरेण्य- उत्कृष्ट चरित्र वाला
  89. ग्रहाणांपति- ग्रहों के देवता
  90. भास्कर- प्रकाश के जन्म दाता
  91. आदिमध्यान्तरहित- जन्म, मृत्यु, रोग आदि पर विजय पाने वाले
  92. सौख्यप्रद- खुशी देने वाला
  93. सकलजगतांपति- संसार के देवता
  94. सूर्य- शक्तिशाली और तेजस्वी
  95. कवि- ज्ञानपूर्ण
  96. नारायण- पुरुष की दृष्टिकोण वाले
  97. परेश- उच्च देवता
  98. तेजोरूप- आग जैसे रूप वाले
  99. हिरण्यगर्भ्- संसार के लिए सोनायुक्त रहने वाले
  100. सम्पत्कर- सफलता को बनाने वाले
  101. ऐं इष्टार्थद- मन की इच्छा पूरी करने वाले
  102. अं सुप्रसन्न- सबसे अधिक प्रसन्न रहने वाले
  103. श्रीमत्- सदा यशस्वी रहने वाले
  104. श्रेयस्- उत्कृष्ट स्वभाव वाले
  105. सौख्यदायिन्- प्रसन्नता के दाता
  106. दीप्तमूर्ती- सदा चमकदार रहने वाले
  107. निखिलागमवेद्य- सभी शास्त्रों के दाता
  108. नित्यानन्द- हमेशा आनंदित रहने वाले
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s